Saturday, February 12, 2011

बेहूदा

interview-भारत कुमार
   इंटरव्यू देने के लिए जैसे ही वह उम्मीदवार कमरे में दाखिल हुआ मैंने उसे पहचान लिया। यह वही लड़का था जिसे मैं अकसर आफिस आते हुए बस में देखा करता था। उसे देखते ही मन चिढ़ जाता।
उसका गंदा व्यक्तित्व, ओछी हरकतें और  भिखारियों सा पहनावा देख अजीब सी घृणा  भर गई थी मेरे अंदर। एक दिन जब वह बस में चतुर्थ श्रेणी के घटिया लिबास में मेरे साथ बैठा तो मन में आया कि उठकर कहीं और बैठ जाऊं। लेकिन थोड़ी देर बाद वो अपनी आदत के मुताबिक स्वयं उठ गया और महिलाओं के लिए आरक्षित सीटों के पास जाकर खड़ा हो गया। फिर उसकी नजरें नजदीक की सीट पर आंखों पर चश्मा डाले बैठी एक लड़की के चेहरे पर रह-रह की फिरने लगीं। एक दिन की बात हो तो कोई बात नहीं, लेकिन ये उसका रोज का पेशा था। वह कनाट प्लेस में कहीं काम करता था क्योंकि मैंने उसे हमेशा वहीं उतरते देखा।
किन्तु वह अपना गंतव्य स्थान आने से बहुत पहले ही अपनी सीट से उठ जाता और बुरे आचरण में संलिप्त हो जाता। ठीक है वह नवयुवक था लेकिन उसकी उम्र के दूसरे कई युवक भी तो थे जो बेहूदगी की उस हद तक नहीं पहुंचते थे।  मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि वो कभी मेरे पास नौकरी के लिए आएगा और मैं उसे अपने पास नौकरी देने के लिए तैयार हो जाऊंगा। बीस-पच्चीस मिनट बात करने पर मैंने जाना कि वो अन्य उम्मीदवारों के बराबर योग्यता और अनुभव रखता है। लेकिन उसके चयन का सबसे महत्वपूर्ण कारण रहा कि घृणा भाव से ही सही लेकिन वो मेरा परिचित जैसा बन चुका है। फैसला तो कर चुका था लेकिन संशय हो रहा था कि कहीं मैंने गलत निर्णय तो नहीं ले लिया। अपने निर्णय को सही साबित करने के लिए मैंने उसे हिदायत दी, ”तो मोहन, अपने पुराने आफिस से हिसाब लेकर तुम अगले सप्ताह से हमें ज्वाइन कर सकते हो।  लेकिन इस बात का ध्यान रखना कि हमारे आफिस का स्तर तुम्हारी पोशाक से गिरे नहीं।
”जैसी आपकी इच्छा। वैसे भी यह जरूरी नहीं कि हम जीवन का प्रत्येक काल अपनी इच्छानुसार जीये। कई बार समझौते करने पड़ते हैं।” मोहन ने कहा।  ”मतलब मैं समझा नहीं। तुम कहना क्या चाहते हो?”
मेज पर हाथ रखते हुए वह बोला, ”मैं पहले बहुत आकर्षक कपड़े ही पहनता था। उन दिनों मैं कई गरीब परिवार के लड़कों की आंखों में देखता कि उनमें मेरे जैसे कपड़े पहनने की इच्छा उत्पन्न हो रही है और अगले ही पल उस इच्छा को आर्थिक कारणों से ऐसे वस्त्र न खरीद पाने की बेबसी मार दे रही है। तब से मैंने सामान्य कपड़ों से भी गये बीते कपड़े पहनने शुरू कर दिये ताकि शहर के सबसे विपन्न व्यक्ति को भी मेरी वजह से कष्ट न मिले।”
उसका संस्मरण सुन मेरा दिमाग चकरा गया। सोचने लगा कि एक तरफ इतने श्रेष्ठ विचार रखने वाला व्यक्ति दूसरी तरफ लोफरों जैसी छिछोरी हरकते कैसे कर सकता है? मेरे स्पष्टीकरण मांगने पर उसने कहा, ”आपने देखा होगा कि मैं केवल सामान्य से भी कम शक्ल सूरत वाली लड़कियों को ही देखता हूं। कालेज के दिनों में मैं महसूस करता था कि सुंदर नयन नख्श वाली लड़कियों में हर कोई रूचि लेता था लेकिन काली, बोझिल चेहरे वाली लड़कियों की उपेक्षा की जाती थी। इससे उन्हें दुख होता। उनका दुख कुछ हद तक कम करने के लिए उन्हें एहसास दिलाने की जरूरत थी संसार में वो उपेक्षित नहीं है। दूसरी लड़कियों की तरह उनकी जिंदगी भी महत्वपूर्ण है। यह एहसास उन्हें मेरे द्वारा देख लिये जाने से मिल जाता था। कालेज के बाद भी यह कार्य जारी रहा। ऐसी किसी दूसरी भावना को मैंने इसमें कभी शामिल नहीं होने दिया जिससे मेरा चरित्र मलिन हो।”
”लेकिन इसके लिए आधे रास्ते में अपनी सीट छोड़ने की क्या जरूरत है?”
”मेरे सीट छोड़ने का इससे कोई संबंध नहीं है। इसके पीछे दूसरी कहानी है। एक दिन मैं शाम को सात-आठ बजे कालेज से घर लौट रहा था। जिस सीट पर बैठा था उसके बगल में एक अधेड़ व्यक्ति खड़े-खड़े सो रहा था। मैंने अनुमान लगाया कि वह डयूटी करके आ रहा है और थकान की वजह से खड़े-खड़े ही झपकियां ले रहा है। मन में आया कि अपनी सीट उसे दे दूं। लेकिन फिर खड़े-खड़े अपने लम्बे कष्टदायी सफर की कल्पना कर मैंने सोचा कि जब मैं आधा सफर तय कर लूंगा तब सीट दे दूंगा। इस आदमी को भी थोड़ा सूकून मिल जाएगा और मैं भी उतना ही कष्ट सहूंगा जितना मैं स्वाभाविक रीति से सह सकता हूं। अपने निश्चय के अनुरूप मैंने आधे रास्ते में उनके लिए सीट छोड़ दी। उसके बाद दूसरो के लिए आधे रास्ते में अपनी सीट छोड़ देना मेरी आदत बन गई।
इन आदतों से मुझे एहसास हुआ कि सेवा के लिए जरूरी नहीं हम समाज सेवी संस्था ही बनाए। एक आम आदमी अपनी दिनचर्या में ही समाज सेवा के लिए कई अवसर खोज सकता है।” मोहन की सभी बातें सुनने के बाद मैंने जाना कि उसे नौकरी देकर मैंने कोई गलती नहीं की है।

आभार         http://www.bhartiyapaksha.com/?p=3470

11 comments:

  1. बड़ा ही क्यूरियस करेक्टर है ये मोहन! लोक सेवा के लिये बड़े अजीब तरीके चुनता है!
    पता नहीं नौकरी के लिये उपयुक्त हो न हो।

    ReplyDelete
  2. "सेवा के लिए जरूरी नहीं हम समाज सेवी संस्था ही बनाए। एक आम आदमी अपनी दिनचर्या में ही समाज सेवा के लिए कई अवसर खोज सकता है"

    ReplyDelete
  3. आप को सही अहसास हुआ कि सेवा के लिए जरूरी नहीं हम समाज सेवी संस्था ही बनाए। एक आम आदमी अपनी दिनचर्या में ही समाज सेवा के लिए कई अवसर खोज सकता है| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  4. ब्लॉग की दुनिया में आपका स्वागत,
    उत्तरप्रदेश ब्लोगेर असोसिएसन
    {uttarpradeshblogerassociation.blogspot.com} ब्लोगेरो की एक बड़ी संस्था बन रही है. आप इसके प्रशंसक बनकर हमारा उत्साह वर्धन करें. ब्लॉग पर पहुँचाने के लिए यहाँ क्लीक करें. इस सामुदायिक चिट्ठे पर लेखक बनने के लिए अपना मेल आईडी इस पते पर भेंजे, indianbloger@gamil.com , इसके बाद आपको एक निमंत्रण मिलेगा और उसे स्वीकार करते ही आप इसके लेखक बन जायेंगे.


    साथ ही पूर्वांचल प्रेस क्लब[ poorvanchalpressclub.blogspot.com] से जुड़े इसके समर्थक बने, और अपने क्षेत्र की मीडिया से सम्बंधित पोस्ट हमें editor.bhadohinews @gamil.com पर या editor.bhadohinews.harish @blogger.com भेंजे

    ReplyDelete
  5. इस बात में कोई भी दो राय नहीं है कि लिखना बहुत ही अच्छी आदत है, इसलिये ब्लॉग पर लिखना सराहनीय कार्य है| इससे हम अपने विचारों को हर एक की पहुँच के लिये प्रस्तुत कर देते हैं| विचारों का सही महत्व तब ही है, जबकि वे किसी भी रूप में समाज के सभी वर्गों के लोगों के बीच पहुँच सकें| इस कार्य में योगदान करने के लिये मेरी ओर से आभार और साधुवाद स्वीकार करें|

    अनेक दिनों की व्यस्ततम जीवनचर्या के चलते आपके ब्लॉग नहीं देख सका| आज फुर्सत मिली है, तब जबकि 14 फरवरी, 2011 की तारीख बदलने वाली है| आज के दिन विशेषकर युवा लोग ‘‘वैलेण्टाइन-डे’’ मनाकर ‘प्यार’ जैसी पवित्र अनुभूति को प्रकट करने का साहस जुटाते हैं और अपने प्रेमी/प्रेमिका को प्यार भरा उपहार देते हैं| आप सबके लिये दो लाइनें मेरी ओर से, पढिये और आनन्द लीजिये -

    वैलेण्टाइन-डे पर होश खो बैठा मैं तुझको देखकर!
    बता क्या दूँ तौफा तुझे, अच्छा नहीं लगता कुछ तुझे देखकर!!

    शुभाकॉंक्षी|
    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा ‘निरंकुश’
    सम्पादक (जयपुर से प्रकाशित हिन्दी पाक्षिक समाचार-पत्र ‘प्रेसपालिका’) एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (बास)
    (देश के सत्रह राज्यों में सेवारत और 1994 से दिल्ली से पंजीबद्ध राष्ट्रीय संगठन, जिसमें 4650 से अधिक आजीवन कार्यकर्ता सेवारत हैं)
    फोन : 0141-2222225(सायं सात से आठ बजे के बीच)
    मोबाइल : 098285-02666

    ReplyDelete
  6. मोहन अपने दैनिक कार्यों में ना केवल समाज के प्रति कुछ करने का सोचता है अपितु उसे जीवन में भी लाता है अभूतपूर्व साहस किया उसने रोचक लघु कहानी |

    ReplyDelete
  7. इस सुंदर से चिट्ठे के साथ आपका हिंदी चिट्ठा जगत में स्‍वागत है .. नियमित लेखन के लिए शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  8. विचित्र मगर प्रेरक तरीके.

    हिन्दी ब्लाग जगत में आपका स्वागत है, कामना है कि आप इस क्षेत्र में सर्वोच्च बुलन्दियों तक पहुंचें । आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके अपने ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या बढती जा सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको मेरे ब्लाग 'नजरिया' की लिंक नीचे दे रहा हूँ आप इसके आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का अवलोकन करें और इसे फालो भी करें । आपको निश्चित रुप से अच्छे परिणाम मिलेंगे । शुभकामनाओं सहित...
    http://najariya.blogspot.com/2011/02/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  9. अच्छी प्रेणादायक कहानी है

    ReplyDelete